डोक्टर राहत इन्दोरी को गित, गज़ल र सायरीहरु

bishal baniya 4

येदि तपाईलाई सायरी मन पर्छ । भने तपाई पक्कै पनि डोक्टर राहत इन्दोरीलाई चिन्नु हुन्छ। राहत इन्दोरी साहबले सायरी, गज़ल र गीत को दुनियामा धेरै नाम कमाउनु भएकोछ। उर्दु गीतको दुनियामा डोक्टर राहत इन्दोरी एउटा महान लेखक हुनुहुन्छ । साथै उहा एउटा हिन्दी गित को दुनियाका महान गीतकार पनि हुनुहुन्छ । उहाको जन्म १ जनवरी १९५० मा मध्यप्रदेशको इंदौर मा भएको थियो । उहाको बुवाको नाम रफ्तुल्लाह कुरेशी र आमाको नाम मक्बूल उन निशा बेगुन रहेको थियो । उहाले आफ्नो उर्दु साहित्य मध्यप्रदेश बाट प्राप्त गर्नु भएको थियो । आज उहाले यो संसार छोडेर जानुभयो । उहाले लेखेका केहि राम्रा राम्रा गित, सायरी र गज़लहरु तल दिएका छन् ।तपाई एकचोटी पढ्नुस र उहा हामीबीच नरहेपनि हामीहरुको मुटुमा सधै रहनु हुनेछ ।

पहिलो पेज

हाथ ख़ाली हैं तेरे शहर से जाते जाते
जान होती तो मेरी जान लुटाते जाते
अब तो हर हाथ का पत्थर हमें पहचानता है
उम्र गुज़री है तेरे शहर में आते जाते

आग के पास कभी मोम को लाकर देखूं
हो इज़ाज़त तो तुझे हाथ लगाकर देखूं
दिल का मंदिर बड़ा वीरान नज़र आता है
सोचता हूँ तेरी तस्वीर लगाकर देखूं

अब जो बाज़ार में रखे हो तो हैरत क्या है
जो भी देखेगा वो पूछेगा की कीमत क्या है
एक ही बर्थ पे दो साये सफर करते रहे
मैंने कल रात यह जाना है कि जन्नत क्या है

ऐसी सर्दी है कि सूरज भी दुहाई मांगे
जो हो परदेश में वो किससे रजाई मांगे

फैसला जो कुछ भी हो, हमें मंजूर होना चाहिए
जंग हो या इश्क हो, भरपूर होना चाहिए
भूलना भी हैं, जरुरी याद रखने के लिए
पास रहना है, तो थोडा दूर होना चाहिए

राज़ जो कुछ हो इशारों में बता भी देना
हाथ जब उससे मिलाना तो दबा भी देना

उसकी कत्थई आंखों में हैं जंतर मंतर सब
चाक़ू वाक़ू, छुरियां वुरियां, ख़ंजर वंजर सब
जिस दिन से तुम रूठीं,मुझ से, रूठे रूठे हैं
चादर वादर, तकिया वकिया, बिस्तर विस्तर सब
मुझसे बिछड़ कर, वह भी कहां अब पहले जैसी है
फीके पड़ गए कपड़े वपड़े, ज़ेवर वेवर सब

जुबा तो खोल, नज़र तो मिला,जवाब तो दे
में कितनी बार लुटा हु, मुझे हिसाब तो दे
तेरे बदन की लिखावट में हैं उतार चढाव
में तुझको कैसे पढूंगा, मुझे किताब तो दे

इश्क ने गूथें थे जो गजरे नुकीले हो गए
तेरे हाथों में तो ये कंगन भी ढीले हो गए
फूल बेचारे अकेले रह गए है शाख पर
गाँव की सब तितलियों के हाथ पीले हो गए

दोस्रो पेज

जवान आँखों के जुगनू चमक रहे होंगे
अब अपने गाँव में अमरुद पक रहे होंगे
भुलादे मुझको मगर, मेरी उंगलियों के निशान
तेरे बदन पे अभी तक चमक रहे होंगे

जागने की भी, जगाने की भी, आदत हो जाए
काश तुझको किसी शायर से मोहब्बत हो जाए
दूर हम कितने दिन से हैं, ये कभी गौर किया
फिर न कहना जो अमानत में खयानत हो जाए
सूरज, सितारे, चाँद मेरे साथ में रहें
जब तक तुम्हारे हाथ मेरे हाथ में रहें

रोज़ तारों को नुमाइश में खलल पड़ता हैं
चाँद पागल हैं अन्धेरें में निकल पड़ता हैं
उसकी याद आई हैं सांसों, जरा धीरे चलो
धडकनों से भी इबादत में खलल पड़ता हैं

कश्ती तेरा नसीब चमकदार कर दिया
इस पार के थपेड़ों ने उस पार कर दिया
अफवाह थी की मेरी तबियत ख़राब हैं
लोगो ने पूछ पूछ के बीमार कर दिया
मौसमो का ख़याल रखा करो
कुछ लहू मैं उबाल रखा करो
लाख सूरज से दोस्ताना हो
चंद जुगनू भी पाल रखा करो

इस दुनिया ने मेरी वफ़ा का कितना ऊँचा  मोल दिया
बातों के तेजाब में, मेरे मन का अमृत घोल दिया
जब भी कोई इनाम मिला हैं, मेरा नाम तक भूल गए
जब भी कोई इलज़ाम लगा हैं, मुझ पर लाकर ढोल दिया

What’s your Reaction?
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0
+1
0

4 thoughts on “डोक्टर राहत इन्दोरी को गित, गज़ल र सायरीहरु

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

International Youth Day 2020: Quotes, Status, Messages, Wishes And More

ShareTweetSharePin0 SharesThe United Nations(UN) International Youth Day Is Celebrated On August 12 Each Year And Provide Us An Opportunity To Mainstream The Young People’s Actions, Voices and Initiatives As Well As Their Meaningful Universal Equitable Engagement. This Celebration Is Also Help Us to Recognize Efforts Of The World’s Youth In […]
International Youth Day 2020

Subscribe US Now